December 2018

Language as Action: Fundamentals of the Speech Act Theory
Dr. Touria Drid

Film Adaptations of Literary Classics as another Facet of Literature : The Case of Charles Dickens's Novels
Hind HANAFI

The Aesthetic Value of T.S. Eliot’s The Waste Land: A Study in Light of Kuntaka’s Theory of Vakrokti
Ankit Trivedi

Revolutionary Idea of Tara Bai Shinde: a study of ‘Stri Purush Tulna’
Radhe shyam sharma

Growth and Development of Indo-Islamic Architecture of India from A.D Early Thirteenth Century to A.D Fifteenth Century under Delhi Sultans
ZAHIED REHMAN GANIE

Nationalism through the Character of Moorthy ’In Raja Rao's Novel Kanthapura
Mukthar Ahmad Ganie

विभाजन की त्रासदी और स्त्री
प्रो. शंभु गुप्त

भक्ति आन्दोलन : एक अध्ययन
डॉ. गीता कुमारी

भारत में सामाजिक तथा सांस्कृतिक परिवर्तन की प्रकृति एवं दिशा
डॉराखी.के शाह

जहाँ लक्ष्मी कैद हैं : एक विश्लेषण
सुभाष  कुमार

किन्नर उत्पत्ति की वैज्ञानिक पड़ताल और सामाजिक मनोविज्ञान
डॉ. सुरेश कुमार निराला

नवें दशक का ग्रामीण यथार्थ और शिवमूर्ति की कहानियां
सौरभ कुमार यादव

समकालीन हिंदी कविता और भूमंडलीकरण
आशीष कुमार

किसानों द्वारा उत्पादित वस्तुओं के क्रय-विक्रय सम्बन्धी चुनौतियां
कृपा एक्का

ओमप्रकाश वाल्मीकि के चिंतन पर डॉ. अंबेडकर का प्रभाव
ज्ञान चन्द्र पाल,  सुनीता पाल

बच्चों के साथ बढ़ते लैंगिक अपराध और भारतीय समाज
दीना नाथ यादव

नवजागरण / पुनर्जागरण
नागेन्द्र प्रसाद सिंह पटेल

पर्यावरण पर महात्मा गाँधी तथा गाँधीवादियों का मत
पंकज वेला

हिंदी की दलित आत्मकथाओं में लोक संस्कृति
प्रदीप कुमार

संघर्ष और यातना का सफर : दुख-सुख के सफर में
प्रेम कुमार

अनुसंधान/शोध : अर्थस्वरूप और प्रकार
मिथिलेश कुमार

स्त्रियों की चीत्कार : दर्दज़ा
वर्षा चौधरी

भीष्म साहनी की कहानियों में सामाजिक यथार्थ
प्रकाश चंद बैरवा

परंपरा और संस्कृति के द्वंद में आज का मानवीय-जीवन
कुमारी मंजू आर्या

An insight into Psychological Barriers
Ms. Meera Shroti, Ms. Sumitra Joshi

Sylvia Plath’s Literary Opus: An Uninhibited Emotional Expression of Personal Experiences
Ms. Sumitra Joshi
Download Full Paper

A Critical Study of Girish Karnad’s Play "Wedding Album"
Kavita Dubey 

Digital Deluge: The bloodshed of Dominant, Negotiated and Oppositional on social media
Shekhar Suman Sinha